मुख्यपृष्ठ

भारतीय संस्कृतिवाहिनी भाषा

 

प्राचीन काल में दुनिया में एकमेव भारतीय संस्कृति थी और वह विश्वव्यापी थी। हमारे सभी प्राचीन ग्रंथ, वेद, ब्राह्मण, आरण्यक, उपनिषद, पुराण, रामायण, महाभारत में आर्य का अर्थ था भद्र, सभ्य, सुसंस्कृत इसलिए हमारे पूर्वजों ने लक्ष्य रखा ‘‘कृष्णवन्तो विश्वमार्यम’’ अर्थात सारी दुनिया को आर्य बनाएंगे, श्रेष्ठ बनाएंगे सभ्य और सुसंस्कृत बनाएंगे। दुनिया की प्रथम सभ्यता का उदय यहीं पर हुआ और यहीं से सारी दुनिया में भारतीय संस्कृति का संचार हुआ। 

दिसंबर २०१९
धरती पर प्रकृति का आपातकाल

देश की राजधानी दिल्ली कुछ वर्षो से ‘स्मॉग’ झेलने को है, बावजूद इसके कि प्रदेश और देश की उच्च से उच्च सभी विधायी और कार्यपालक व्यवस्थाएं यहीं आवासित हैं, कुछ भी हो नहीं पा रहा है और प्रकृति के हाल पर सब कुछ छोड़ दिया जाता है, उच्चतम न्यायालय की तल्ख टिप्पणी कि ‘सांसों से महरूम कर आप लोगों को गैम चेंबर में रख कर क्यों मारना चाहते हैं, उन्हें विस्फोटक से उड़ा दें, का भी किसी पर असर नहीं हुआ, सिवाय इसके कि राजनीतिज्ञों को एक-दुसरे के सिर पर ठीकरा फोड़ने का एक मौका जरूर हासिल हो गया…….

अयोध्या मंदिर के लिए सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला

लोकसभा की पूर्व अध्यक्ष श्रीमती मीरा कुमार ने कहा है कि महिलाओं का आदर-सत्कार और उनकी गरिमा को पवित्र बनाए रखने के लिए अयोध्या में प्रस्तावित निर्माणाधीन मंदिर केवल भगवान ‘श्रीराम’ के नाम से नहीं अपितु ‘सीताराम’ के नाम से होना चाहिए।
श्रीमती मीरा कुमार ने कल यहाँ बिरला मंदिर में आयोजित गीता जयन्ती समारोह के अवसर पर कहा कि ‘गीता’ ने हमें अन्याय और शोषण के खिलाफ लड़ने की प्रेरणा दी है। आज देश में महिलाओं पर होने वाले अन्याय व अत्याचार, शोषण व भेदभाव तथा बुराई व असत्य के विरुद्ध युद्ध स्तर पर कार्य करना होगा। गीता में ‘जन्मयोग’ पर नहीं ‘कर्मयोग’ पर बल दिया गया है।

नवंबर २०१९
अयोध्या मंदिर के लिए सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला

अयोध्या में संबंधित स्थल पर विवाद सदियों पुराना है जहां मुगल बादशाह बाबर ने या उसकी तरफ से तीन गुंबद वाली बाबरी मस्जिद बनवाई गई थी। हिन्दुओं का मानना है कि मुस्लिम हमलावरों ने वहां स्थित राम मंदिर को नष्ट कर मस्जिद बना दी थी, यह मामला १८८५ में तब कानूनी विवाद में तब्दील 

अप्रैल-२०१९
३० मार्च राजस्थान स्थापना दिवस
पूर्व संध्या पर हुआ राजस्थानी संस्थाओं का सम्मान

लोखंडवाला: मुंबई का ह्रदय कहा जाने वाला सभ्रांत इलाका लोखंडवाला कॉम्पलेक्स में स्थित लोखंडवाला गार्डेन क्र.२ में चतुर्थ वर्षीय ‘आपणों राजस्थान’ कार्यक्रम की रंगारंग शुरूआत २२-२४ फरवरी, त्रीदिवसीय रूप में शुरू हुयी, जिसका उद्घाटन २२ फरवरी को प्रसिद्ध समाजसेवी सुश्री मंजु लोढा ने किया और कहा कि ऐसे कार्यक्रम में आकर मुझे अपने बचपन की याद आ गयी,

aapno-rajsthan1
महाराष्ट्र की भूमि पर देखा गया राजस्थान
barkha-pandit

दिनांक २३ मार्च २०१९ को ‘आपणों राजस्थान’ कार्यक्रम के दूसरे दिन की शुरूवात बड़े हर्षोल्लास व उमंग भरी रही, कार्यक्रम की शुरूवात नैनमल सुराणा फांउडेशन के ट्रस्टी श्री कैलाश सुराणा, सतीश सुराणा, सुमन अग्रवाल द्वारा दीप प्रज्वलित कर किया गया, सांस्कृतिक कार्यक्रम का प्रारंभ पाश्र्वगायक व संगीतकार रवि जैन ने गीत के माध्यम से किया, 

ना देखा गया आजतक-ना ही सोचा गया आश्विरकार सम्पन्न हुआ २४ मार्च को आपणों राजस्थान का कार्यक्रम
दिनांक २४ मार्च

को सुबह आयोजित विश्व प्रसिद्ध अमृतवाणी सत्संग के पश्चात अमृतवाणी प्रवर्तक आध्यात्मिक गुरू डॉ. श्री राजेन्द्र जी महाराज जी को ‘आपणों राजस्थान’ की तरफ राजस्थान रत्न से संस्थापक बिजय कुमार जैन जी द्वारा सम्मानित किया गया।

24-march-1
आवश्यकता मूल्यपरक शिक्षा की
वर्तमान 

वर्तमान शिक्षा प्रणाली ब्रिटिश शासन की देन है जो कि राष्ट्रीय और सामाजिक चुनौतियों का सामना करने के लिए पूरी तरह निष्फल साबित हो रही है, आजादी प्राप्त करने के बाद हमने अपनी आवश्यकता,

वरिष्ठ पत्रकार व सम्पादक बिजय कुमार जैन ‘हिंदी सेवी’ का हुआ सम्मान
मुंबई:

मानव सेवा, समाज सेवा, राष्ट्र सेवा ही जिसका धर्म है जिसको पिछे मुड़कर देखना ही नहीं आता, उसका सम्मान तो होना ही चाहिए था, उसी कड़ी में १६ अप्रैल २०१९ को महावीर जन्मकल्याणक पर्व की पूर्व संध्या पर समाज के विशिष्ट लोगों द्वारा सम्मान किया गया,

bijay-jain
महाराष्ट्र राज्य की स्थापना १ मई १९६०
maharashtra-rajya
महाराष्ट्र राज्य का संक्षिप्त परिचय

महाराष्ट्र भारत के सबसे अधिक औद्योगिक राज्यों में से एक है, यह देश के पश्चिमी और मध्य भाग में स्थित है, यहाँ विस्तृत सह्याद्री पहाड़ी है। अरब सागर तट पर ७२० किलोमीटर की एक सुंदर पृष्ठभूमि वाले महाराष्ट्र में एक विशाल आकर्षण है। महाराष्ट्र की स्थापना १ मई १९६० को हुई थी।

अंतरराष्ट्रीय श्रमिक दिवस का इतिहास और उत्पत्ति
अंतरराष्ट्रीय मज़दूर दिवस

अंतरराष्ट्रीय मज़दूर दिवस विश्व स्तर का एक बड़ा उत्सव है और इसे १ मई १८८६ के दिन को याद करने के लिये मनाया जाता है, शिकागो में हेयरमार्केट घटना के कारण (हेयरमार्केट हत्याकाण्ड)। ये उस वर्ष की एक बड़ी घटना थी जब मज़दूर अपने आठ घंटे के कार्य-दिवस के लिये आम हड़ताल पर थे और पुलिस आम लोगों को भीड़ से तितर-बितर करने का अपना कार्य कर रही थी।

international-labour-day
जीटीबी नगर में हुआ होली मिलन समारोह
jbt-nagar
मुंबई: 

जायसवाल फाउंडेशन की तरफ से रविवार, ७ अप्रैल को जीटीबी नगर स्थित श्री सनातन धर्म सभा हाईस्कूल सभागृह में काव्य संध्या ,होली स्नेह मिलन समारोह और युवक-युवती परिचय सम्मेलन का आयोजन किया गया था।

प्राथमिक शिक्षा मातृभाषा में होना आवश्यक- बर्वे
अंबरनाथ

अंबरनाथ, दुनिया के अधिकांश देशों में प्राथमिक शिक्षा मातृभाषा में ही दी जाती है। अंग्रेजी भाषा की शिक्षा सीखना आवश्यक है और हमें अपनी मानसिकता को बदलना चाहिए। प्राथमिक शिक्षा अपनी मातृभाषा में होना आवश्यक है। ऐसा मत मुंबई पुलिस आयुक्त संजय बर्वे ने व्यक्त किया है।

barve
दिल्ली-NCR और हरियाणा में छठे चरण में वोटिंग
voting
लोकसभा चुनाव

लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान हो चुका है और ७ चरणों में चुनाव संपन्न होना है, ११ अप्रैल से १९ मई तक लोकसभा सीटों पर वोट डाले जाने हैं जबकि मतगणना के लिए २३ मई की तारीख तय की गई है। राजधानी दिल्ली और हरियाणा में १२ मई को होने वाले छठे चरण में वोट डाले जाएंगे।

Social media & sharing icons powered by UltimatelySocial